Cloud Computing Kya Hota Hai | What is Cloud Computing In Hindi

4.7/5 - (21 votes)

Cloud Computing Kya Hota Hai: दोस्तों आपने Cloud Computing शब्द तो सुना ही होगा. और आपने ये जानने की भी कोशिश की होगी की ये Cloud Computing क्या होता है.

और यह जानना हमारे लिए बहुत जरूरी है क्योंकि इस बदलती दुनिया में हमारे लिए अपडेट रहना बहुत जरूरी है. Cloud Computing को लेकर आपके मन में जो भी सवाल है उसकी चर्चा हम इस पोस्ट में करने जा रहे हैं.

आज इस पोस्ट में हम जानेंगे कि क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है, क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करती है. इसका इतिहास क्या है और क्लाउड कंप्यूटिंग के क्या फायदे हैं.

साथ ही हम यह भी जानेंगे कि क्लाउड कंप्यूटिंग के आने से हमारे जीवन में क्या बदलाव आए हैं? आइए सबसे पहले नीचे जानते हैं कि क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है.

उसके बाद बाकी बातों पर हम विस्तार से चर्चा करेंगे. तो चलिए बिना देर किए शुरू करते हैं. और हमेशा की तरह कुछ नया सीखते हैं. हमारे साथ बने रहें और इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें.

Table of Contents

Cloud Computing Kya Hota Hai? What is Cloud Computing In Hindi

क्लाउड कंप्यूटिंग एक ऐसी तकनीक है, जिसकी मदद से हम विभिन्न प्रकार की इंटरनेट सेवाओं की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं. Internet से संबंधित सेवाएं जैसे Data Store करना, Networking , Database

बनाना और Software से संबंधित सेवाएं, हम Cloud Computing के माध्यम से आसानी से प्राप्त कर सकते हैं. Cost-saving, Increase productivity, Speed, Efficiency, Performance और Security ऐसे कई कारण हैं.

जो क्लाउड कंप्यूटिंग लोगों और लोगों के व्यवसायों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. क्लाउड कंप्यूटिंग के कारण, हमारे Important Data या Files को किसी भी Hard Drive में Save किये  बिना Cloud-Based Store में Save किया जा सकता है.

इंटरनेट की मदद से आप Cloud Computing में Save किए गए Data या Files को कहीं भी और कभी भी Access कर सकते हैं.

क्लाउड कंप्यूटिंग के मदत से किसी भी Stored डेटा तक पहुंचने और Software Programs को Run करने का एक आसान तरीका है.

यह एक ऐसी तकनीक है, जो अपने यूजर्स के Data और Information को साथ लेकर चलने के साथ-साथ उन्हें Remote Service की सुविधा भी देती है. वह भी Minimal Cost के साथ.

यदि आप किसी भी डेटा को Hard drive पर Save करते हैं, तो जब भी आपको जरूरत हो, आपके पास वह हार्ड ड्राइव होना जरूरी है. लेकिन अगर आप उस Data को Cloud Computing में Store करते है,

तो आपको किसी भी Hard Drive को अपने साथ रखने की कोई जरूरत नहीं पड़ता है. इंटरनेट के माध्यम से क्लाउड कंप्यूटिंग में Store किया गया Data और Information को कहीं भी और कभी भी एक्सेस किया जा सकता है.

Cloud Computingका इतिहास क्या है? What is The History of Cloud Computing in Hindi

अगर हम क्लाउड कंप्यूटिंग के इतिहास की बात करें तो ऐसा माना जाता है कि इसकी शुरुआत साल 1960 में हुई थी. 1960 के दशक में इंटरनेट की शुरुआत भी ठीक से नहीं हुई थी.

लेकिन क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल 1990 में सेल्सफोर्स नाम की कंपनी ने किया था. क्योंकि जब 1960 में इसकी शुरुआत हुई थी, तब इसे ठीक से शुरू नहीं किया गया था.

इसलिए क्लाउड कंप्यूटिंग के शुरुआती साल कुछ लोग 1960 और कुछ 1990 कहते हैं. लेकिन असल में क्लाउड कंप्यूटिंग की शुरुआत 1960 में हुई थी और इसका इस्तेमाल पहली बार 1990 में किया गया था.

लेकिन जब सेल्सफोर्स नाम की कंपनी ने पहली बार क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल किया तो दूसरी बड़ी कंपनियों को इसके महत्व के बारे में पता चला.

और धीरे-धीरे लोगों में क्लाउड कंप्यूटिंग की चाहत बढ़ने लगी. आज के समय में Google, Facebook, Amazon और Microsoft जैसी बड़ी कंपनियां क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल करती हैं.

Cloud Computing कैसे काम करता है | How Cloud Computing Works in Hindi

जिस तरह इंटरनेट में कई सर्वर होते हैं, उसी तरह क्लाउड कंप्यूटिंग भी कई सर्वरों से मिलकर बनी होती है. यानी की इसमें कई सारे सर्वर और कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है.

इसमें एक विशेष सॉफ्टवेयर को काम में लिया जाता है. क्लाउड कंप्यूटिंग में सिर्फ एक नहीं बल्कि कई सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है. यानी क्लाउड कंप्यूटिंग सर्वर और कई सॉफ्टवेयर से मिलकर बनी होती है.

क्लाउड कंप्यूटिंग आमतौर पर Two layers पर काम करती है. एक होता है Back End और दूसरा होता है Front End.

सर्वर को मैनेज करने के लिए उपयोग की जाने वाली Layers को Back end कहा जाता है. और जो लेयर क्लाइंट के लिए होती है या क्लाइंट द्वारा उपयोग की जाती है उसे Front End लेयर कहा जाता है.

Cloud Computing कितने प्रकार की होती है? What are the types of Cloud Computing in Hindi

क्लाउड कंप्यूटिंग 7 प्रकार की होती है, तो आइए अब हम नीचे उन विभिन्न प्रकारों के बारे में चर्चा करते हैं. Public Cloud (सार्वजनिक Cloud) पब्लिक क्लाउड आम जनता के लिए Storage और Internet सेवा प्रदान करता है.

Public Cloud  का लाभ यह है कि, एक ही समय में, एकाधिक उपयोगकर्ता समान सेवाओं को इस्तेमाल कर सकते है. यह एक ऐसी तकनीक है जिसे एक Third-Party कंपनी के माध्यम से Manage किया जाता है,

और स्वचालित रूप से कई ग्राहकों के लिए काम करता है. Public Cloud के कई Providers हैं, लेकिन उनमें से कुछ लोकप्रिय और सबसे बड़े Providers हैं जैसे कि Alibaba Cloud, Amazon Web Services (AWS), Google Cloud, IBM Cloud, and Microsoft Azure.

Private Cloud (निजी Cloud)

प्राइवेट क्लाउड क्या होता है और इसका काम क्या होता है, आपको इसके नाम से थोड़ा बहुत पता चल ही गया होगा. Private Cloud एक क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा है जो आपकी सभी Internet सेवा और Hardware-Software संसाधनों को केवल एक क्लाइंट को समर्पित करती है.

प्राइवेट क्लाउड को, Internal cloud  और Corporate Cloud के नाम से भी जाना जाता है. उपयोगकर्ता जो अपनी Privacy और Security का ख्याल रखते हैं.

ऐसे में उन लोगों को काफी फायदा मिलता है जो प्राइवेट क्लाउड का इस्तेमाल करते हैं. कई कंपनियां हैं, जो पब्लिक क्लाउड के बजाय प्राइवेट क्लाउड का इस्तेमाल करना पसंद करती हैं. क्योंकि यह Daily Basis की आवश्यकताओं को पूरा करने का एक आसान तरीका है. कुछ लोग इसका उपयोग इसलिए करते हैं,

ताकि उनके Confidential Documents, Personal Information, Medical Documents, Financial Documents और Sensitive डेटा सुरक्षित रह सकें. कुछ निजी क्लाउड प्रदाताओं के उदाहरण हैं HP Data Centers, Microsoft, and Elastra – Private cloud.

Hybrid Cloud (हाइब्रिड Cloud)

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि Hybrid का मतलब एक संयोजन होता है. और यहां पर हाइब्रिड क्लाउड के बारे में बात करें तो 2 और उससे ज्यादा क्लाउड के कॉम्बिनेशन को Hybrid Cloud समझा जाता है.

आजकल यूजर्स Hybrid Cloud के जरिए काम करना पसंद करते हैं. क्योंकि यहां यूजर्स को Private Cloud की Privacy के साथ-साथ Public Cloud का फायदा भी मिलता है.

Hybrid Cloud Users के लिए बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि यह Traditional System के माध्यम से Latest cloud technology के साथ सेवा प्रदान करता है.

कुछ क्लाउड कंपनियां हाइब्रिड क्लाउड की सुविधाएं प्रदान करती हैं जैसे AWS outposts, Azure arc, Azure stack, Google Anthos, आदि.

Community Cloud (सामुदायिक Cloud)

Community Cloud क्लाउड कंप्यूटिंग का एक और महत्वपूर्ण हिस्सा है. कम्युनिटी क्लाउड कई संगठनों के उपभोक्ताओं को सेवा प्रदान करता है.

Private cloud की तुलना में Community cloud कम लागत प्रभावी है. कम्युनिटी क्लाउड की तुलना में Community Cloud अधिक सुरक्षित है.

जो संगठन आपस में जुड़े हुए हैं, उस संगठन के उपभोक्ता Community Cloud का उपयोग कर सकते हैं.

Cloud Computing
Types of Cloud Computing

Distributed Cloud (वितरित Cloud)

Distributed cloud एक प्रकार का Public Cloud कंप्यूटिंग है. जो किसी भी प्रकार की लोकेशन में सर्विस दे सकता है. जहां विभिन्न क्लाउड प्रदाता डेटा केंद्र हैं, या Third party डेटा केंद्र और कॉलोकेशन डेटा केंद्र,

हर जगह सेवा प्रदान कर सकते हैं, वह भी केवल एक नियंत्रण में. इसका नाम Distributed cloud है क्योंकि यह Public Cloud को Distribute करके सर्विस प्रदान करता है.

Hybrid Cloud और Multi-Cloud में Operational और Management की Inconsistency जैसी समस्याएं वितरित क्लाउड में नहीं पाई जाती हैं. Distributed cloud के कुछ उदाहरण Netflix, YouTube आदि हैं.

Multi-Cloud (बहु Cloud)

मल्टी-क्लाउड एक ऐसी तकनीक है, जहां उपयोगकर्ता 2 या अधिक क्लाउड के संयोजन से सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं. यह संयोजन 2 या अधिक Clouds का हो सकता है,

जैसे कि 2 Private Clouds का संयोजन, 2 Public Clouds का संयोजन भी हो सकता है. Multi-Cloud एक ऐसा सेवा प्रदाता है, जो अधिक flexible सेवा प्रदान करता है.

इसके साथ ही Multi-Cloud यूजर्स को Hosting के लिए किसी अन्य Cloud पर निर्भर होने की जरूरत नहीं पड़ती है. इसके कुछ उदाहरण Amazon Web Services (aws), Google Cloud Platform (gcp), Microsoft Azure आदि हैं.

HPC Cloud (एचपीसी Cloud)

HPC (High-performance computing) क्लाउड Scientists, Researchers, और Engineers को सेवाएं प्रदान करता है.

एचपीसी Cloud में डेटा को उच्च गति से संसाधित करने, जटिल गणनाओं को हल करने और इससे भी बड़ी जटिल समस्याओं को हल करने की क्षमता होती है.

इसके जरिए 3GHz प्रोसेसर वाले Desktop और Laptop में एक सेकेंड में करीब 3 अरब कैलकुलेशन पूरे किए जा सकते हैं.

Cloud Computing के क्या फायदे हैं? What Are The Advantages of Cloud Computing in Hindi

जैसा कि हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि क्लाउड कंप्यूटिंग एक ऐसी ट्रेंडिंग टेक्नोलॉजी है. जिसे हर संस्था अपने बिजनेस की ग्रोथ के लिए अपनाना चाहती है.

क्योंकि इसके बहुत सारे फायदे हैं दोस्तों जिसकी वजह से लोग इसे इतना पसंद कर रहे हैं. तो आइए चर्चा करते हैं इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदों के बारे में.

Scalability (अनुमापकता)

क्लाउड कंप्यूटिंग की एक बेनिफिट यह है की, यह Scalable यानि की Flexible है. इसके जरिए यूजर्स को Flexibility की सुविधा मिलती है.

उपयोगकर्ता जब चाहे किसी भी परिस्थिति में अपना काम बहुत आसानी से कर सकता है. इसकी मदद से आप Internet के जरिए कहीं भी कभी भी अपना काम कर सकते हैं.

Mobility (गतिशीलता)

हम क्लाउड कंप्यूटिंग के जरिए मोबाइल पर भी अपना काम कर सकते हैं. लैपटॉप और डेस्कटॉप पर काम करने से हमें जो लाभ मिलते हैं, उन्हें मोबाइल के जरिए भी आसानी से किया जा सकता है.

Sustainability (वहनीयता)

Cloud Computing का एक अन्य महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह टिकाऊ(Sustainable) होता है. क्लाउड सेवा के माध्यम से, बड़ी कंपनियों में, ऊर्जा की खपत और कार्बन उत्सर्जन की मात्रा लगभग 30% कम हो जाती है.

Data Security (डाटासुरक्षा)

क्लाउड में स्टोर किया गया Data और Files 100% सिक्योर होता है. इससे किसी भी हैकर्स या किसी और के लिए आपकी कोई भी जानकारी हासिल करना मुश्किल हो जाता है.

क्लाउड का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स की जानकारी लीक होने से बच जाती है. इसके साथ ही यह Extensive Access ऑप्शन भी प्रदान करता है.

Improved Collaboration (बेहतरसहयोग)

Cloud applications लोगों को क्लाउड स्टोरेज में संग्रहीत जानकारी को जल्दी और आसानी से Share करने की अनुमति देते हैं.

Low Maintenance Cost (कमरखरखावलागत)

इसमें समय के साथ-साथ पैसे की भी बचत होती है. Hardware और Software पर जितना पैसा खर्च करना पड़ता था, क्लाउड कंप्यूटिंग के मामले में उतना पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ती है.

advantages of cloud computing
Advantages of cloud computing

Back-Up and Restore Data (बैकअपऔरडेटापुनर्स्थापित)

अगर आप अपना डेटा क्लाउड कंप्यूटिंग पर स्टोर करते हैं. तो बाद में आपके लिए बैकअप और रिस्टोर करने के लिए आपको किसी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता है.

Manageability (प्रबंधनक्षमता)

Cloud Computing Manageable है, क्लाउड अपने उपयोगकर्ताओं को आसानी से और जल्दी से गारंटीकृत, निर्बाध सेवाएं प्रदान करता है. यह सभी सेवाओं का अच्छी तरह से Maintain और Manage करता है.

Quality Control (गुणवत्तानियंत्रण)

Reporting में Inconsistency और Poor quality कुछ ऐसी समस्याएं हैं जो व्यवसायों की सफलता में बाधक बनते हैं. लेकिन Cloud-based सिस्टम में,

सभी डेटा एक ही Format में और उसी स्थान पर सुरक्षित रूप से Stored होते हैं. इसके कारण कोई भी हैकर या कोई अन्य व्यक्ति इसके बारे में कुछ भी नहीं जान सकता है.

Excellent Accessibility (उत्कृष्टपहुंच)

Cloud के माध्यम से, आप इंटरनेट कनेक्शन के माध्यम से कहीं भी, कभी भी संग्रहीत Information और Data तक आसानी से पहुंच सकते हैं. इसमें संग्रहीत जानकारी हमेशा Accessible होती है.

Business Continuity (व्यावसायिकनिरंतरता)

Cloud-based System के साथ, व्यवसाय करने का एक लाभ यह है कि यह आपके महत्वपूर्ण दस्तावेज़ों, सूचनाओं और डेटा को सुरक्षा और सुरक्षित रखता है.

इसमें प्राकृतिक आपदाओं या संकट के समय डेटा का Back up लेने और Restore करने की सुविधा है.

Unlimited Storage Capacity (असीमितभंडारणक्षमता)

क्लाउड अपने यूजर्स को अनलिमिटेड Storage की सुविधा मुहैया कराता है. जिसमें Important Documents, डेटा, ऑडियो, वीडियो आदि को स्टोर किया जा सकता है.

इसमें असीमित Storage Capacity है, जिसे आपकी आवश्यकता के अनुसार किसी भी समय बढ़ाया जा सकता है.

Cloud Computing के उदाहरण क्या हैं? What are Examples of Cloud Computing in Hindi

Examples of Cloud Computing
Examples of Cloud Computing

Cloud Computing के कई उदाहरण हैं क्योंकि इसका इस्तेमाल आज के समय में कई कंपनियां करती हैं. लेकिन हम इनमें से कुछ बड़ी और मशहूर कंपनियों के बारे में चर्चा करेंगे और जानेंगे कि कौन सी कंपनी इसका इस्तेमाल करती है और यह कितना फायदेमंद है.

YouTube

YouTube पर हर एक मिनट में 72 घंटे का वीडियो अपलोड किया जाता है. और अपलोड किए गए Video को Store करने के लिए Storage की जरूरत होती है.

ऐसे में यूट्यूब पर अपलोड किए गए वीडियो को स्टोर करने के लिए YouTube Cloud Computing का इस्तेमाल करता है.

Facebook

सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले सोशल मीडिया Facebook के बारे में तो आप जानते ही होंगे. फेसबुक पर बहुत सारे मीडिया अपलोड किए जाते हैं,

ऐसे में उन मीडिया को स्टोर करने के लिए स्टोरेज की जरूरत होती है. और Facebook अपने मीडिया को स्टोर करने के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल करता है.

Netflix

अगर आप Ott प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं तो आप Netflix के बारे में तो जानते ही होंगे. अगर आप नहीं जानते हैं तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि यह एक Online Video Streaming App है.

जिसका आप Subscription खरीद सकते हैं, और अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर नवीनतम फिल्में और Web series ऑनलाइन देख सकते हैं. और Netflix अपने उपयोगकर्ताओं को एक स्थिर और सुरक्षित सेवा प्रदान करने के लिए Cloud Computing का उपयोग करता है.

Conclusion – निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है कि आपको Cloud Computing Kya Hota Hai, Cloud Computing कैसे काम करता है, Cloud Computing का इतिहास क्या है,

इसके बारे में बहुत कुछ पता चल गया होगा. हमारा हमेशा से यही प्रयास रहा है कि पाठकों को नई तकनीक से संबंधित सटीक और नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए. अगर आपको हमारा यह छोटा सा प्रयास पसंद आया तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें.

अगर इस लेख से संबंधित आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर पूछ सकते हैं. हम आपके सवालों और सुझावों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे.

अगर आपको यह लेख Cloud Computing Kya Hota Hai, पसंद आया तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलें. और हमें भविष्य में कुछ ऐसे ही अच्छे कंटेंट लिखने के लिए प्रेरित करें। जय हिन्द

Sharing Is Caring...

Leave a Comment